-

पद्मविभूषण गिरिजा देवी जी की स्मृति में 'पुष्पांजलि' - 2023-24


दिनांक  - 12 दिसंबर 2023
स्थान- असि घाट वाराणसी

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी लखनऊ, एवं संस्कृति विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा सुबह-ए-बनारस, वाराणसी के सहयोग से दिनांक 12 दिसंबर 2023 को पद्मविभूषण विदुषी गिरिजा देवी जी की स्मृति में असि घाट वाराणसी पर ‘‘पुष्पांजलि’’ संगीत समारोह का आयोजन सफलतापूर्वक किया गया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में पद्मश्री विदुषी गिरिजा देवी जी की प्रमुख शिष्या पद्मश्री मालिनी अवस्थी तथा अन्य अतिथिगण पद्मभूषण डॉ0 एन राजम, अकादमी के पूर्व अध्यक्ष पद्मश्री डॉ राजेश्वर आचार्य, पूर्व कुलपति किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय पद्मश्री डॉ सरोज चूड़ामणि गोपाल, सुप्रसिद्ध कथक कलाकार पद्मश्री नलिनी एवं पद्मश्री कमलिनी जी तथा लंदन से पधारी आर्डर ऑफ ब्रिटिश एम्पायर से विभूषित भरतनाट्यम कलाकार डॉ0 गीता उपाध्याय, अकादमी पुरस्कार से अलंकृत डॉ विजय कपूर उ0प्र0 के पूर्व संस्कृति पर्यटन धर्मार्थ एवं प्रोटोकॉल मंत्री डॉ0 नीलकंठ तिवारी, डॉ रत्नेश वर्मा, पं0 प्रमोद मिश्र एवं डॉ0 वीरेंद्र प्रताप सिंह आदि उपस्थित रहे। अकादमी निदेशक डॉ0 शोभित कुमार नाहर द्वारा सभी अतिथियों का स्वागत करने के उपरान्त दीप प्रज्ज्वलन कर सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत की।

इस अवसर पर डॉ नीलकंठ तिवारी ने विदुषी गिरिजा देवी जी के व्यक्तित्व को विशेषता, सहजता एवं शुद्धता से परिपूर्ण बताते हुए उनके जीवन को प्रेरक बताया। गिरिजा देवी जी की प्रिय शिष्या पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने अपनी गुरू का स्मरण करते हुए उनकी सांगीतिक वैविध्य का भी स्मरण किया और अपनी गुरू की स्मृति में आयोजन साकार करने के लिये संस्कृति मंत्री श्री जयवीर सिंह जी के मार्गदर्शन एवं प्रमुख सचिव, संस्कृति विभाग उत्तर प्रदेश सरकार के संरक्षण सहयोग के प्रति विशेष साधुवाद व्यक्त किया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत विश्वप्रसिद्ध वायलिन वादिका पद्मभूषण विदुषी डॉ0 एन.राजम तथा उनकी सुपुत्री एवं सुयोग्य शिष्या डॉ0 संगीता शंकर जी द्वारा युगल वायलिन वादन की संगति एवं बनारस घराने के लोकप्रिय वादक श्री अभिषेक मिश्र की तबला संगति के माध्यम से गायकी अंग में प्रस्तुत राग गोरख कल्याण में विलंवित एकताल में निबद्ध रचना से हुई। इसी क्रम में द्वितीय प्रस्तुति बनारस घराने के सुप्रसिद्ध गायक कलाकार पद्मभूषण पं साजन मिश्र एवं उनके सुपुत्र तथा सुयोग्य शिष्य श्री स्वरांश मिश्र जी ने युगल गायन राग मारु बिहाग में विलंबित एकताल में निबद्ध बन्दिश से बोल ‘‘सईया तोरे’’ द्वारा की। इसी क्रम में अगली रचना तीनताल में निबद्ध रसपूर्ण रही जिसके बोल थे ‘‘सघन वन बोले रे कोयलिया’’ थी। इनके साथ तबले पर श्री राजेश मिश्रा एवं संवादिनी पर साथ दिया पं धर्मनाथ मिश्र ने।

सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत वाराणसी से आए प्रियांशु घोष ने अपनी प्रस्तुति राग शिवरंजनी, विलम्बित एक ताल में सुनाया ’ ऐरी कांहे कूकूत बैरन.... इसके बाद द्रुत तीनताल में ’ कोयल बोले कू कू कू....। इसके अलावा उन्हें राग खमाज में टप्पा अद्धा त्रिताल मे ए मियां मैं ताने वारि जाऊं ’ सुनाया। तत्पश्चात नई दिल्ली से आए रीतेश -रजनीश मिश्रा ने अपनी पुष्पांजलि राग मधुकौंस में प्रस्तुत की। इसके अलावा उन्होंने भजन ’जननी मैं न जियूं बिन राम...गाया अन्त में मुंबई से आईं सुश्री अश्विनी भिड़े ने आजकल चल रहे चैत्र के महीने को देखते हुए चैती सुनाकर अप्पा जी को अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की।


दिनांक  - 09 फरवरी, 2024
स्थान- सेठ गंगा प्रसाद माहेश्वरी सभागार, सहारनपुर

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी लखनऊ, (संस्कृति विभाग, उ.प्र.) द्वारा ज़िला प्रशासन, सहारनपुर के सहयोग से दिनांक 09 फरवरी, 2024 को पद्मविभूषण विदुषी गिरिजा देवी जी की स्मृति में गांधी पार्क स्थित सेठ गंगा प्रसाद माहेश्वरी सभागार में ‘‘पुष्पांजलि’’ संगीत समारोह का आयोजन सफलतापूर्वक किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि महापौर नगर निगम, सहारनपुर, डॉ. अजय सिंह, विशिष्ट अतिथि डॉ. दिनेश चन्द्र, ज़िलाधिकारी सहारनपुर, एडीएम-ई डॉ.अर्चना द्विवेदी तथा एडीएम वित्त एवं राजस्व श्री रजनीश मिश्र आदि उपस्थित रहे। अकादमी निदेशक डॉ. शोभित कुमार नाहर द्वारा सभी अतिथियों का स्वागत करने के उपरान्त अतिथियों सहित दीप प्रज्ज्वलन कर सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत की।

इस अवसर पर अकादमी निर्देशक डॉ. शोभित कुमार नाहर द्वारा अवगत कराया गया कि अकादमी की ओर से यह कार्यक्रम पूरे प्रदेश में अलग-अलग स्थान पर आयोजित किए जा रहे हैं। इन कार्यक्रम का उद्देश्य भारतीय संस्कृति को युवा पीढ़ी तक पहुंचाना और क्षेत्रीय विधाओं का प्रचार-प्रसार करना है।

सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत सुश्री पद्मजा चक्रवर्ती, दिल्ली और उस्ताद सखावत हुसैन रामपुरी ने अपने स्वरों को संगीतमयी धागे में पिरोकर सांस्कृतिक प्रस्तुति की माला बनाकर प्रस्तुत की। इनके साथ संगतकर्ता के तौर पर भारतीय वाद्ययंत्रों की धरोहर को संजोते हुए हारमोनियम पर श्री सुमित मिश्र, तबले पर श्री सिद्धार्थ चक्रवर्ती एवं लवी शर्मा, तानपुरा पर सुश्री सोनाली राय चौधरी और आकांक्षा सिंह, सारंगी पर सुश्री प्रिया रस्तोगी तथा सिंथसाइज़र पर श्री शावेज उपस्थित रहे।


दिनांक  - 20 फरवरी, 2024
स्थान- संत गाडगे जी महाराज प्रेक्षागृह, लखनऊ

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी लखनऊ, (संस्कृति विभाग, उ0प्र0) द्वारा दिनांक 20 फरवरी, 2024 को पद्मविभूषण विदुषी गिरिजा देवी जी की स्मृति में संत गाडगे जी महाराज प्रेक्षागृह में ‘‘पुष्पांजलि’’ समारोह का आयोजन सफलतापूर्वक किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि मा0 संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री श्री जयवीर सिंह, विशिष्ट अतिथि के तौर पर प्रमुख सचिव श्री मुकेश कुमार मेश्राम, समाज कल्याण के प्रमुख सचिव डाॅ0 हरिओम, भातखण्डे संस्कृति विश्वविद्यालय की कुलपति डाॅ0 माण्डवी सिंह आदि उपस्थित रहे। अकादमी निदेशक डॉ0 शोभित कुमार नाहर द्वारा सभी अतिथियों का स्वागत करने के उपरान्त अतिथियों सहित दीप प्रज्ज्वलन कर सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत की।

इस अवसर पर संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री श्री जयवीर सिंह जी ने कहा कि संगीत के बिना जीवन अधूरा माना जाता है। इसलिए उत्तर प्रदेश का संस्कृति विभाग राज्य के हर ज़िले में महोत्सव कर कलाकारों को प्रोत्साहित कर रहा है, जिसमें ग्रामीण से युवा संगीतकारों तक को साल में तीन प्रस्तुतियां देने का अवसर प्रदान किया जा रहा है। इसके अलावा अन्य संस्थाओं से सम्बद्ध होकर एमओयू के जरिए संस्कृति का आदान-प्रदान किया जा रहा है।

कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए वरिष्ठ तबला वादक पंडित कुमार बोस ने तीन ताल मध्य लय वादन से श्रोताओं को आनन्दित किया। तत्पश्चात पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने प्रो0 कमला श्रीवास्तव एवं पद्मश्री राजबिसारिया जी को श्रृद्धांजलि देने के उपरान्त अपनी गुरू विदुषी गिरिजा देवी को नमन करते हुए उनकी सिखायी प्रिय ठुमरी राग खम्बावती में निबद्ध ‘होली खेलो मोसे नंद लाल’ सुनायी, इसके बाद दादरा ‘बहिया छोड़ो न बलम’ और अन्त में चैती ‘बैरन रे कोयलिया ताहरी बोली न सुहाए’ सुनाया। आपके साथ संगतकर्ता के रूप में हारमोनियम पर पंडित धर्मनाथ मिश्रा, तबले पर कुमार बोस और तानपुरे पर मानसी एवं आकृति ने संगत की।

कार्यक्रम के अन्त में पद्मविभूषण पंडित हरिप्रसाद चौरसिया जी ने राग मारू बिहाग से बांसुरी वादन की शुरुआत की, तत्पश्चात बांग्ला गीत ‘ओम जय जगदीश हरे,’ की आरती धुन बजाकर उपस्थित जनसमूह को भाव-विभोर कर दिया। आपके साथ तबले पर प्रसिद्ध तबला वादक पं0 छन्नूलाल मिश्रा के पुत्र पं0 रामकुमार मिश्रा एवं सह बांसुरी वादक देबोप्रिया, रानादीव एवं जय गांधी ने संगत की।